“बेहतरीन कविताएं” by मुरली श्रीवास्तव ! #Hindi Poetry

Before saying anything , I just want this poetic creation open the curtains of this particular write -up, which is my first one  dedicated specifically to ever -so-wonderful  Indian Poetry & Indian Poets :

 

लेखनी

 

जो लिखता हूँ ,  कि यह पीड़ा है ,

तो पीड़ा कम होती है ,

मैं पीड़ा कम करने के लिए लिखता हूँ , या पीड़ा को लिखता हूँ ,

ऐसा तो नहीं , कि लेखनी में  पीडा को जीता हूँ ,

कि  मेरे आस पास है मृत्यु ,

और दूर खड़ा है जीवन ,

इसके बीच जो सत्य है

 वह लेखनी है ।

………………….

Touched I felt after going through the words above, penned down by Sh. Murli Manohar Srivastava who professionally is a Mechanical Engineer working with NTPC  Ltd. but at heart he is 100 %  poet  & a writer .

He has already published 2 successful books in Hindi   –

1. Satya Jeet ta Hai (Truth always prevails )

2. Sambhava – A Poetry Book of  21st century 

Without using any further jugglery of words , I would rather let some of his writings  below  (taken from his book Sambhavna)  do all the talking :

49735130_754189734952004_3225293750922117120_n

 

1.कवि

 

मदिरा के उफान को

धधकती हुई भट्ठी पर

उसके उतरने और ठंडा होंने से पहले ही पी सको

तो समझो ,  किसी कविता को जिया है तुमने , उस विशेष क्षण में

और ऐसे ही क्षणों को मिला कर ,  जीवन बना सको , तो समझो , किसी कवि को जन्म दिया है तुमने ,

हाँ ,  इसके बाद भी तुम कवि के निर्माता नहीं हो

जन्म देने और निर्माण करने में फर्क होता है

हाँ तुम महुए के उस वृक्ष की तरह हो ,  जिसे खुद भी मदिरा की तासीर का दर्द नहीं  पता ,

एक कवि तासीर होता है सिर्फ तासीर

न कड़ाहे को पता है , न भट्ठी को और न ही महुए को ,

कि उस ने उबाल कर बनाया क्या है ।

यहाँ तक कि शराबी को भी मदिरा की तासीर का दर्द  नहीं पता होता ।

………………….

 

2.मेरी जिंदगी

 

एक दिन , वक्त ने मुझसे ,

गुजरे हुये लम्हों का हिसाब मांगा ,

और मैंने मुस्कुरा कर कहा ,

दोस्त  , मैं बता तो देता तुम्हें ,

एक –  एक पल का हिसाब ,

पर क्या करूं ,

मेरी जिंदगी ,

भावनाओं  की जागीर है ,

गणित की किताब नहीं  ।

………………………

 

3.दरबान

 

मैने तुमसे ,  मिट्टी के घरौंदे

और आंसुओं  के खिलौने मांगे ,

और तुमने मुझे ,

सोने चांदी के हथियार पकडा ,

मोतियों की माला गले में डाल ,

महल का दरबान बना दिया  ।

………………………

 

4.कींमत

 

वक्त बीतने के बाद मुझे पता चला ,

भूख आंसू और नींद की कींमत ,

 हीरे –  मोती से  ज्यादा है ।

………………………

 

5.मेरी विरासत

 

मैं एकत्र कर रहा हूँ  ,

जीवन में , आंसुओं से लिखे पन्ने ,

कुछ , अपने चाहने वालों को भेजने के लिये ,

और कु्छ ,

आने वाली पीढी को ,

विरासत में देने के लिये ।

………………………….

 

6. दरबान

 

मैने तुमसे ,  मिट्टी के घरौंदे

और आंसुओं  के खिलौने मांगे ,

और तुमने मुझे ,

सोने चांदी के हथियार पकडा ,

मोतियों की माला गले में डाल ,

महल का दरबान बना दिया  ।

…………………………………

“Inside Out with Rahul Yuvi has recently been listed under directory for Best Indian Blogs , 2018″

………………………………….

About the Author : 

 

49787669_238695690382047_2421597042175377408_n

………………………………..

Some mesmerizing words above , aren’t they ? For those who want to read a lot his other original creations can find the same in his book Sambhavna available here :

{Sambhavna @Flipkart !

Sambhavna @ Amazon}

  • Find the kindle edition of all the books written by Sh. Murli Manohar Srivastava here :

Kindle edition of Poetry Books by Sh.Murli Srivastava

…………………………….

…………………………………

How did you find this blog ? Do you wish me to share more such write ups on Hindi Poetry ?

Do share your feedback in the comments below !

Namaste & Take Care !! 🙂

Advertisements

3 Comments Add yours

  1. Only kabir says:

    thank you so much rahulyuvi😊😊

    Like

  2. RahulYuvi says:

    “Mujhe Shayar Hona Pasand Aaya” ..interesting Title ! Congratulations & Best Wishes for your 1st Book .

    Liked by 1 person

  3. Only kabir says:

    pls check out my first book give a review on amazon
    https://amzn.to/2VZI9vf

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s